Skip to content

Commodity Market क्या है और यह कैसे कार्य करता है

  • Oliver 
Commodity Market क्या है

नमस्कार दोस्तों आज के इस ब्लॉग में हम बात करेंगे कमोडिटी मार्केट के बारे में आपने स्टॉक मार्केट के बारे में तो सुना ही होगा स्टॉक मार्केट क्या है और कैसे काम करता है आज हम जानेंगे Commodity Market क्या है और इसके बारे में फुल डिटेल्स में बात करेंगे स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में क्या अंतर होता है

Commodity Market क्या है

कमोडिटी का मतलब होता है A product are material that can be brought and sold कमोडिटी मार्केट एक ऐसा मार्केट है जिसमें सोना कॉफी ऑयल नेचुरल रिसोर्सेज जैसी चीजों में ट्रेडिंग की जाती है कम्युनिटी मार्केट को सेबी रेगुलेट करता है कॉमेडीटी मार्केट को भी दो टाइप मैं डिवाइड किया गया है

  1. Hard Commodities – जितने भी नेचुरल रिसोर्सेज होते हैं जैसे मेटल और एनर्जी जो हमें प्रकृति के द्वारा प्राप्त होते हैं वह हार्ड कमोडिटीज में आते हैं जैसे मेटल में सोना, चांदी, जिनक, प्लेटिनम आदि आते हैं
  1. Soft Commodities – इसमें वह चीजें आती हैं जिन्हें देखभाल कर कर तैयार किया जाता है जैसे कि कृषि, अनाज, सोयाबीन, चावल, गेहूं, कॉफी शक्कर आदि और दूसरा मटन और अंडा आता है 

Commodity Exchange क्या है 

या एक ऑर्गेनाइजेशन है जो कॉमेडीटी में ट्रेडिंग करने के लिए एक एक्सचेंज को प्रदान करता है जैसे कि स्टॉक मार्केट में ट्रेड करने के लिए एक स्टॉक एक्सचेंज होता है जैसे बीएससी एंड एनएससी वैसे ही भारत में कुल छे कमोडिटी एक्सचेंज है 

  1. Multi commodity exchange 
  2. Ace Derivatives exchange 
  3. The universal commodity exchange
  4. National multi commodity exchange
  5.  Indian commodity exchange
  6.  National commodity and derivatives exchange

Read More – ETF Exchange Traded Fund क्या होता है

Read More – UPI Payment कैसे काम करती है

Commodity Market क्या है
Commodity Market क्या है

वैसे तो यह सभी कमोडिटी एक्सचेंज है लेकिन इनमें सबसे पॉपुलर और सबसे बड़े दो ही एक्सचेंज हैं 1. Multi commodity exchange 2. National commodity and derivatives exchange जिनमें सबसे ज्यादा ट्रेडिंग होती है अगर इनके कुछ फैक्ट के बारे में बात करें तो MCX एक ऐसा एक्सचेंज था जिसने भारत में सबसे पहले 2012 में अपना आईपीओ निकाला और यह ऐसा एक्सचेंज बना जो पब्लिकली लिस्टेड हुआ 

अगर आप इसके शेयर में नजर डालेंगे तो इसमें 2012 से अभी तक 42% का उछाल आया है और इसके शेयर होल्डिंग की बात करें तो फौरन इंस्टिट्यूट इसके सबसे ज्यादा शेयर ओल्ड करते हैं 

Commodity Market vs Stock Market 

स्टॉक मार्केट में अगर आप कोई शेयर खरीदते हैं तो उसे आप 1 दिन तक होल्ड कर सकते हैं 1 महीने तक होल्ड कर सकते हैं या चाहे तो आप उसे कुछ सालों तक भी रख सकते हैं लेकिन कमोडिटी मार्केट में इतना लंबा समय नहीं मिलता यहां पर एक सीमित समय होता है जिसमें उसके एक्सपायरी की डेट होती है जिससे पहले आपको उसे बेचना ही होगा आप उसे ज्यादा समय तक अपने पास नहीं रख सकते

स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग सुबह 9:00 बजे से 3:30 बजे तक ही कर सकते हैं वही आप कमोडिटी मार्केट में ट्रेडिंग का समय ज्यादा होता है यह करीब 12 घंटे खुला रहता है हर समय उसमें ट्रेडिंग होते रहती है अगर शेयर मार्केट में आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं तो आप उस कंपनी की ओनरशिप खरीदते हैं आपको उस कंपनी में हिस्सा मिलता है चाहे वह छोटा सा ही क्यों ना हो

लेकिन कमोडिटी मार्केट में ओनरशिप नाम की कोई भी चीज नहीं है क्योंकि यहां पर कोई भी कंपनी नहीं है अगर आगे चलके उस कमोडिटी का प्राइस बढ़ जाता है तो उसे आप बेचकर अपना प्रॉफिट कमा सकते हो तो कुछ ऐसी ट्रेडिंग होते हैं कमोडिटी मार्केट में

शेयर मार्केट बहुत ही वोलेटाइल होता है यहां पर शेयर प्राइस काफी ज्यादा ऊपर भी चले जाते हैं और काफी ज्यादा नीचे भी आ जाते हैं ऐसे में कुछ भी सोचना काफी मुश्किल होता है वही कमोडिटी मार्केट मैं बिल्कुल भी वोलेटाइल नहीं होता है जोकि शेयर मार्केट का बिल्कुल ही उल्टा है

Leave a Reply

Your email address will not be published.