Credit Score क्या होता है ?

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सभी का एक और नई पोस्ट में जिसमें हम आज एक अहम जानकारी समझने वाले हैं जिसमें हम जानेंगे कि Credit Score क्या होता है और इसकी आवश्यकता हमें कहां कहां पर पड़ती है और आप लोगों ने इसका नाम तो कहीं ना कहीं जरूर सुना ही होगा

दोस्तों आज के समय में लोन और क्रेडिट कार्ड लेने वालों के लिए सबसे जरूरी चीज होती है उनका क्रेडिट स्कोर क्रेडिट स्कोर की मदद से ही बैंकिंग संस्थान को आपकी इनकम और आपके ग्रोथ का पता चलता है यानी कि आप अपने उधार को चुकाने में कितना सक्षम है और क्रेडिट स्कोर के बेस पर ही आपके लोन और आपके क्रेडिट कार्ड के एप्लीकेशन को स्वीकारा और नकारा जाता है

Credit Score क्या होता है 

क्रेडिट स्कोर एक 3 अंकों का नंबर होता है जिसकी रेंज 300 से लेकर 900 के बीच होती है आप अपने पिछले समय में किस तरह से अपने लोनऔर अपने क्रेडिट कार्ड को मैनेज करते हैं यह इस बेस पर निकाला जाता है इसको की मदद से वित्तीय संस्थान  को मदद मिलती है यह जानने में कि व्यक्ति अपना लोन चुका पाएगा या नहीं

300 से लेकर 549 तक बहुत ही कम क्रेडिट स्कोर माना जाता है और 500 से लेकर 700 तक को मीडियम रेंज में माना जाता है दोनों ही जगह में अपने क्रेडिट इसको को बढ़ाया जा सकता है वही आपका जितना ज्यादा क्रेडिट स्कोर 900 के पास होगा और उतना ही फायदा आपको इससे होता है

Credit Score Calculate कैसे किया जाता है

वित्तीय संस्थान और लोन और क्रेडिट कार्ड देने वाले बैंक अपने उपभोक्ताओं के डाटा को क्रेडिट ब्यूरो को भेजते हैं जैसे कि CIBIL फिर यह ब्यूरो अपनी एल्गोरिदम का इस्तेमाल करके फिर कस्टमर्स के क्रेडिट स्कोर को कैलकुलेट करते हैं यह एल्गोरिदम बहुत सारे फैक्टर्स को चेक करती है जैसे कि आपने कितने सारे लोन लिए हैं और कितने सारे क्रेडिट कार्ड लिए हैं

और उनका इस्तेमाल करते हैं क्या आपने उन क्रेडिट कार्ड का बिल या लोन का बिल समय पर भुगतान किया है किस प्रकार का लोन आपने लिया है और इत्यादि बहुत सारी जानकारी प्राप्त करती है यही सारी चीजों को मिलाया जाता है क्रेडिट स्कोर को कैलकुलेट करने के लिए

Credit Score क्या होता है
Credit Score क्या होता है

Also Read – Investment Bank क्या होते हैं

Also Read – NPS क्या है और इसके फायदे क्या है

CIBIL के अलावा और 3 क्रेडिट ब्यूरो है जिनका नाम है EQUFAX, CRIF, Experian जो कि आरबीआई द्वारा मान्यता प्राप्त है और इनको लाइसेंस प्राप्त है भारत में क्रेडिट ब्यूरो के लिए काम करने के लिए आप अपने क्रेडिट कार्ड का स्कोर चेक कर सकते हैं इन क्रेडिट कार्ड की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर

कुछ ब्यूरो आपको फ्री क्रेडिट कार्ड इसको चेक कर आते हैं वही कुछ दूसरे ब्यूरो आपसे वन टाइम फीस या कुछ टैक्स के रूप में लेते हैं अगर आप लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करना चाहते हैं और अगर आप का क्रेडिट स्कोर कम है तो आप अपने क्रेडिट कार्ड के उसको को बढ़ा सकते हैं

Credit Score कैसे बढ़ाया जाता है

अपने क्रेडिट स्कोर को बढ़ाने के लिए आपको अपने ईएमआई को समय-समय पर भरते रहना चाहिए ईएमआई को समय पर देने से आपका क्रेडिट इसको तो बढ़ेगा ही साथ ही आपको किसी भी प्रकार की पेनल्टी नहीं लगेगी जो कि समय पर ईएमआई ना देने पर आप से चार्ज की जा सकती है और समय पर बिल का भुगतान करने पर आपको भविष्य में भी लोन लेने में आसानी होती है

दोस्तों अगर आपके पास पुराना कोई क्रेडिट कार्ड है तो उसे आपको लंबे समय तक इस्तेमाल करना चाहिए जब तक आप उसका बिल पैड कर पा रहे हैं इससे आपकी एक लंबी क्रेडिट हिस्ट्री बनेगी जिससे आपको एक अच्छा क्रेडिट स्कोर बढ़ाने में मदद मिलेगी

आप अपने क्रेडिट कार्ड से अपनी लिमिट से जितना कम पैसा इस्तेमाल करेंगे आपके क्रेडिट कार्ड के क्रेडिट स्कोर के लिए उतना ही बेहतर होगा अगर आप अपने क्रेडिट लिमिट को फुल इस्तेमाल करते हैं तो उससे आपके क्रेडिट कार्ड के स्कोर पर बुरा प्रभाव पड़ता है 

जब आप कोई भी लोन लेते हैं तो आपको यह कोशिश करनी चाहिए कि उसके रीपेमेंट के लिए लंबा समय ले इससे यह होगा कि आपकी जो ईएमआई है वह बहुत ही कम होगी तो आप समय पर अपनी पेमेंट्स कर पाएंगे टाइम में अपनी ईएमआई पर करने पर आप का क्रेडिट स्कोर बढ़ता है

3 thoughts on “Credit Score क्या होता है ?”

Leave a Comment