Insider Trading क्या होती है

दोस्तों स्वागत है आप सभी का एक और न्यू ब्लॉक में जिसमें हम जानेंगे कि Insider Trading क्या होती है इसको कैसे किया जाता है और क्या यहां भारत में लीगल है या इल्लीगल आज इन सब के बारे में बात करेंगे अगर यह इल्लीगल है तो यह क्यों इल्लीगल है तो चलिए जानते हैं क्या होता है इंसाइडर ट्रेडिंग !

Insider Trading क्या होती है 

आप शेयर मार्केट में कोई भी कंपनी का शेयर खरीदने से पहले उस कंपनी का पहले का एनालाइज करते हैं और आप कोशिश करते हैं कि उस कंपनी के फ्यूचर और गोल्स क्या है और उस कंपनी के बारे में ज्यादा से ज्यादा इंफॉर्मेशन जुटाने की कोशिश करते हैं जिसमें आप जानना चाहते हैं कि कंपनी ने अपने कारोबार में कौन से नए कदम उठाए हैं

और कंपनी में क्या बड़े-बड़े कोई चेंज एस हुए हैं क्या हाल ही में कोई धांधली तो नहीं हुई मतलब आप उस कंपनी की सारी जानकारी जानने की कोशिश करेंगे लेकिन आप वही इंफॉर्मेशन जान सकते हैं जो कि अखबारों और टीवी में प्रकाशित की जाती है वह तो हर कोई जान सकता है जो उस शेयर के बारे में रिसर्च करेगा 

अगर आपको कंपनी की अंदर की इंफॉर्मेशन आपको पहले से पता चल जाए अगर उस कंपनी के किसी कर्मचारी के द्वारा आपको कोई जानकारी प्राप्त हो जाए और आप ऐसी जानकारी पाएं कि आने वाले समय में उस कंपनी के शेयर पर क्या प्रभाव पड़ सकता है 

Also Read – Index Funds क्या होता है

Also Read – Cashback कंपनी कैसे पैसा कमाती है

अब वहां हो सकता है कि कंपनी या तो बहुत अच्छी है या तो बहुत अच्छी ग्रोथ कर रही है या हो सकता है किसी नए प्रोजेक्ट पर काम करने वाली हो या किसी नए प्रोजेक्ट को लाने वाली हो जिसकी वजह से कंपनी के शेयर प्रॉफिट में जाएं या फिर वह कोई बुरी खबर भी हो सकती है जैसे कंपनी में कोई बहुत बड़ा लॉस हुआ हो तो आप इन दोनों न्यूज़ की वजह से ही अपना डिसीजन ले सकते हैं

कब और कैसे उस कंपनी के शेयर में ट्रेड किया जाए और इसके जरिए आप बड़ा प्रॉफिट कमा सकते हैं इसी को कहते हैं इंसाइडर ट्रेडिंग भारत में इंसाइडर ट्रेडिंग को इलीगल तरह से देखा जाता है कुछ केसों में इंसाइडर ट्रेडिंग लीगल भी है जिनको हम आगे जानेंगे 

Insider Trading क्या होती है
Insider Trading क्या होती है

Insider Trading क्यों इलीगल है

भारत में शेयर बाजार में बहुत से लोग शेयर को खरीदते और भेजते हैं और सब की सोच है कि कंपनी के शेयर को अपनी सोच समझ से ही प्रिडिक्ट करो  और जो कंपनी से न्यूज़ और खबर आई है उसको एनालाइज करो और उसके बाद में कंपनी में अपना पैसा इन्वेस्ट करो

लेकिन अब आपके पास यहां इंसाइडर इंफॉर्मेशन है जो कि बाकी इन्वेस्टर्स के पास नहीं है तो यहां पर आपको एक अच्छा खासा बेनिफिट नहीं रहा है इसीलिए यह बाकी दूसरे ट्रेडर्स के लिए गलत है सभी के लिए सेम रूल और समान अपॉर्चुनिटी होनी चाहिए

Also Read – Commodity Market क्या है

Also Read – UPI Payment कैसे काम करती है

लोगों का शेयर मार्केट में बहुत भरोसा है और इंसाइडर ट्रेडिंग की वजह से उनका यह भरोसा बिल्कुल ही खत्म हो जाएगा जब उनको पता लगेगा कि इसमें बहुत भेदभाव हो रहा है मान लीजिए कि आप एक इन्वेस्टर है और आपने कंपनी में अपना पैसा इन्वेस्ट किया और कंपनी को लॉस हो गया और आपके सारे पैसे डूब गए तो इसमें आपको बहुत बुरा लगेगा

लेकिन इससे भी बुरा आपको तब लगेगा जब सबको लॉस नहीं हुआ जिसमें कुछ इन्वेस्टर्स को पहले से ही कंपनी के शेयर के बारे में इंफॉर्मेशन मिल गई थी की कंपनी के अंदर कुछ बड़ा घोटाला हुआ है उस न्यूज़ के बाद उन्होंने अपने कंपनी के शेयर में सारे पैसे निकाल लिए जिसके बाद कंपनी के शेयर धड़ाम से नीचे गिर गए 

Insider Trading लीगल है कुछ केसों में 

जैसे मान लेते हैं कि आप भी कंपनी में काम करते हो और आप कंपनी के इंसाइडर मेंबर हो और आपको लगता है कि मेरी कंपनी के भविष्य में बहुत अच्छे  ग्रोथ है और मेरी कंपनी भविष्य में अच्छा खासा पैसा कमा सकती है और आपने खुद अपनी कंपनी के ही शेयर खरीद लिए तो इस तरह से यह एक इंसाइडर ट्रेडिंग हुई

लेकिन यह बिल्कुल भी गलत नहीं है क्योंकि आपने बाहर वाले को एक भी इंफॉर्मेशन नहीं दी यह तो एक बहुत बड़ी बात है कि आप एक बहुत ही बढ़िया अच्छी कंपनी में है और आप अपनी कंपनी के शेयर में अपना पैसा इन्वेस्ट कर रहे हैं बहुत बड़ी बड़ी कंपनी के सीईओ अपने ही कंपनी के शेयर खरीद लेते हैं हालांकि इनके लिए भी कुछ नियम कानून होते हैं जिनको वह पालन करना पड़ता है

Leave a Comment